chandrayaan-3 मिशन: लैंडर ने साउथ पोल पर सल्फर की उपस्थिति का पता लगाया

chandrayaan-3 मिशन लैंडर ने साउथ पोल पर सल्फर की उपस्थिति का पता लगाया

chandrayaan-3 मिशन: लैंडर ने साउथ पोल पर सल्फर की उपस्थिति का पता लगाया

chandrayaan-3 मिशन के लैंडर ने दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रमा की सतह में सल्फर (S) की उपस्थिति का पहला इन-सिटू माप प्राप्त किया है। यह एक महत्वपूर्ण खोज है जो चंद्रमा की उत्पत्ति और विकास के बारे में अधिक जानकारी प्रदान कर सकती है। यह जानकारी भविष्य में चंद्रमा पर मानव मिशनों को सफल बनाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

chandrayaan-3 मिशन के लैंडर ने दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रमा की सतह में सल्फर (S) की उपस्थिति का पहला इन-सिटू माप प्राप्त किया है। यह जानकारी लेजर-इंड्यूस्ड ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोप (LIBS) उपकरण द्वारा प्राप्त की गई है, जिसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के बेंगलुरु स्थित प्रयोगशाला में विकसित किया गया है।

LIBS एक शक्तिशाली उपकरण है जो चंद्रमा की सतह के रासायनिक और भौतिक गुणों का अध्ययन करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह लेजर किरणों का उपयोग करके चंद्रमा की सतह को उजागर करता है और फिर इस किरण से उत्सर्जित प्रकाश की तरंग दैर्ध्य का विश्लेषण करता है। इस विश्लेषण से चंद्रमा की सतह में मौजूद तत्वों की पहचान की जा सकती है।


यह पढ़े – उत्कृष्टता की दिशा में: ISRO द्वारा chandrayaan 3 की गर्वयात्रा की खोज – भारत के चंद्रमा अन्वेषण का शानदार सफलता


chandrayaan-3 मिशन के लैंडर द्वारा प्राप्त परिणामों से पता चलता है कि दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रमा की सतह में सल्फर की महत्वपूर्ण मात्रा मौजूद है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि सल्फर चंद्रमा के गहरे तल में पानी के अणुओं को बांधने में मदद कर सकता है। इस पानी को भविष्य में चंद्रमा पर मानव मिशनों के लिए एक महत्वपूर्ण संसाधन हो सकता है।

इसके अलावा, LIBS द्वारा प्राप्त परिणामों से यह भी पता चलता है कि दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रमा की सतह में अन्य तत्वों, जैसे एल्यूमीनियम (Al), कैल्शियम (Ca), लोहा (Fe), क्रोमियम (Cr), टाइtanium (Ti), मैंगनीज (Mn), सिलिकॉन (Si) और ऑक्सीजन (O) की भी महत्वपूर्ण मात्रा मौजूद है। ये तत्व चंद्रमा की उत्पत्ति और विकास के बारे में, अधिक जानकारी प्रदान कर सकते हैं।

chandrayaan-3 मिशन के लैंडर द्वारा प्राप्त परिणाम अत्यंत महत्वपूर्ण हैं और वे चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के बारे में हमारी समझ को गहराई से बढ़ाएंगे। इस मिशन से प्राप्त जानकारी भविष्य में चंद्रमा पर मानव मिशनों को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *