भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर; एक बार जरूर करें दर्शन

भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर; एक बार जरूर करें दर्शन

भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर; एक बार जरूर करें दर्शन

9 सितंबर, 2023

कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर, भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिरों के बारे में जानें। इन मंदिरों में, आप भगवान कृष्ण की मूर्तियों और कलाकृतियों को देख सकते हैं, और उनके प्रति अपनी भक्ति प्रकट कर सकते हैं।

कृष्ण जन्माष्टमी, भगवान श्री कृष्ण के जन्म का उत्सव, भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन, भक्त कृष्ण मंदिरों में जाकर उनके दर्शन करते हैं और उन्हें प्रार्थना करते हैं। भारत में भगवान कृष्ण के अनगिनत मंदिर हैं, लेकिन कुछ विशेष रूप से प्रसिद्ध हैं।

यहाँ भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर हैं:

1. इस्कॉन मंदिर, वृंदावन

वृंदावन, भगवान कृष्ण की लीलाओं का स्थान है, इसलिए यहाँ के मंदिर विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं। इस्कॉन मंदिर, वृंदावन के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह मंदिर 1975 में बनाया गया था और यह राधा-कृष्ण को समर्पित है। मंदिर की वास्तुकला भव्य और आकर्षक है और यहाँ की भक्ति के माहौल में श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो जाते हैं

2. जगन्नाथ मंदिर, पुरी

ओडिशा के पुरी में स्थित जगन्नाथ मंदिर, भगवान कृष्ण के अवतार भगवान जगन्नाथ को समर्पित है। यह मंदिर 12वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह चारधाम यात्रा में से एक है। जगन्नाथ मंदिर की अपनी अनूठी विशेषताएं हैं, जैसे कि मंदिर के शिखर पर लहराता हुआ झंडा जो हमेशा हवा की विपरीत दिशा में लहराता है।

3. श्रीनाथजी मंदिर, नाथद्वारा

राजस्थान के नाथद्वारा में स्थित श्रीनाथजी मंदिर, भगवान कृष्ण के बाल रूप को समर्पित है। यह मंदिर 12वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह अपनी सुंदर मूर्तियों और कलाकृतियों के लिए जाना जाता है।

4. बालकृष्ण मंदिर, हंपी

कर्नाटक के हंपी में स्थित बालकृष्ण मंदिर, भगवान कृष्ण के बाल रूप को समर्पित है। यह मंदिर 16वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।

5. इस्कॉन मंदिर, बेंगलुरु

बेंगलुरु में स्थित इस्कॉन मंदिर, भारत का सबसे बड़ा कृष्ण मंदिर है। यह मंदिर 1997 में बनाया गया था और यह वैदिक और धार्मिक सभ्यताओं को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया था।

6. उड़ुपी श्री कृष्ण मठ

कर्नाटक के उड़ुपी में स्थित उड़ुपी श्री कृष्ण मठ, भगवान कृष्ण को समर्पित है। यह मंदिर 13वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह अपनी सुंदर मूर्तियों और कलाकृतियों के लिए जाना जाता है।

7. श्री रंछोद्रीजी महाराज मंदिर, गुजरात

गुजरात के वड़ोदरा में स्थित श्री रंछोद्रीजी महाराज मंदिर, भगवान कृष्ण को समर्पित है। यह मंदिर 17वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह अपनी सुंदर वास्तुकला और जीवंत उत्सवों के लिए जाना जाता है।

8. श्री कृष्ण मंदिर, गोकुल

मथुरा के गोकुल में स्थित श्री कृष्ण मंदिर, भगवान कृष्ण की जन्मभूमि है। यह मंदिर 16वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह अपनी पवित्रता और ऐतिहासिक महत्व के लिए जाना जाता है।

9. श्री कृष्ण मंदिर, मथुरा

मथुरा में स्थित श्री कृष्ण मंदिर, भगवान कृष्ण को समर्पित है। यह मंदिर 17वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह अपनी सुंदर वास्तुकला और जीवंत उत्सवों के लिए जाना जाता है।

10. बांके बिहारी मंदिर, वृंदावन

वृंदावन में स्थित एक हिंदू मंदिर है। यह भगवान कृष्ण के बाल रूप को समर्पित है। मंदिर का निर्माण 1864 में स्वामी हरिदास ने करवाया था। मंदिर में कृष्ण की काले रंग की मूर्ति है, जो बांसुरी बजाते हुए बैठी हुई है। मूर्ति को बहुत ही सुंदर और आकर्षक कहा जाता है।

मंदिर में हर दिन हजारों भक्त दर्शन के लिए आते हैं। विशेष रूप से जन्माष्टमी के अवसर पर मंदिर में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। मंदिर के पास ही एक तालाब है, जिसे गोविंद कुंड कहा जाता है। इस तालाब में स्नान करने के बाद भक्त मंदिर में दर्शन करते हैं।

बांके बिहारी मंदिर को भारत के सबसे प्रसिद्ध कृष्ण मंदिरों में से एक माना जाता है। यह मंदिर अपनी भक्ति और शांति के लिए जाना जाता है। मंदिर परिसर में एक भव्य हॉल है, जहां भक्त संगीत और नृत्य का आनंद ले सकते हैं।

यदि आप भारत में हैं और भगवान कृष्ण के दर्शन करना चाहते हैं, तो आपको बांके बिहारी मंदिर अवश्य जाना चाहिए। यह एक अद्भुत और पवित्र मंदिर है, जो आपको शांति और आनंद का अनुभव कराएगा।

यहाँ बांके बिहारी मंदिर के बारे में कुछ और रोचक तथ्य हैं:

  • मंदिर का नाम “बांके बिहारी” कृष्ण के एक लोकप्रिय नाम से लिया गया है, जिसका अर्थ है “बांसुरी बजाने वाला”।
  • मंदिर की मूर्ति को बहुत ही पवित्र माना जाता है और इसे कभी भी बाहर नहीं निकाला जाता है।
  • मंदिर में एक स्थायी धूपबत्ती जलती रहती है, जो भक्तों के लिए आशीर्वाद का प्रतीक है।
  • मंदिर परिसर में एक पुस्तकालय भी है, जिसमें कृष्ण और अन्य हिंदू देवताओं के बारे में कई पुस्तकें हैं।

इन मंदिरों की यात्रा करके, आप भगवान कृष्ण के प्रति अपनी भक्ति प्रकट कर सकते हैं और उनकी कृपा प्राप्त कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *